अवैध धर्मान्तरण रैकेट संचालक मौलाना कलीम सिद्दीकी गिरफ्तार

जिला मुजफ्फरनगर के ग्राम फुलत निवासी हैं मौलाना
बीती रात दावत में हिस्सा लेने मेरठ आये थे
वापस कार से सभी जा रहे थे तभी उन्हें उठाया गया
लिसाड़ी गेट थाने को समाज के लोगों ने रात में ही घेरा
लोगों ने अपहरण की जताई थी आशंका
लगातार मोबाइल स्विच आफ रहे 
पुलिस ने दिया सुरक्षित बरामदगी का आश्वासन 
 पुलिस कप्तान ने ज्यादती न होने का दिया आश्वासन- काजी
क्यों और किस आरोप के चलते उठाया गया ? कोई बताने को राजी नहीं
बुधवार की दोपहर किया गिरफ्तारी का खुलासा 
मेरठ। जिस मौलाना कलीम सिद्दीकी के बीती रात अचानक गायब होने के बाद मेरठ के लिसाड़ी गेट थाने को लोगों ने घेर लिया था, शहर काजी जैनुल रासिद्दीन व सपा के पूर्व कैबिनेट मंत्री शाहिद मंजूर ने पुलिस  कप्तान से मुलाकात कर पैरवी की थी वह देश में धर्मान्तरण का अवैध कारोबार चला रहा था। इस धंधे के लिये हवाला के जरिये मोटी धनराशि विदेशों से प्राप्त हो रही थी। देश भर के कई मदरसों की फंडिंग कर तैयार किया गया है धर्मान्तरण का अवैध कारोबार। मेरठ से मौलाना कलीम को गिरफ्तार कर आज एटीएस ने लखनऊ में इस धंधे का खुलासा कर दिया। यूपी के मुजफ्फरनगर के गांव फुलत निवासी मौलाना जामिया इमाम वलीउल्ला नामक ट्रस्ट भी संचालित कर रहा है। कलीम ने फुलत के एक मदरसे से प्राथमिक शिक्षा ली और इसके बाद मेरठ कालेज मेरठ से बीएससी किया। मौलाना ने पीएमटी प्रवेश परीक्षा भी पास की लेकिन एमबीबीएस करने के बजाय इस्लामी संस्थान दारूल उलूम नदवतुल उलमा लखनऊ में दाखिला ले लिया था।
(विस्तार से यह भी देखिये –https://www.youtube.com/watch?v=-5O_CKPDi_Y&t=43s)
इससे पूर्व मशहूर इस्लामिक स्कालर मौलाना कलीम सिद्दीकि को उनके तीन मौलाना साथियों के साथ बीती रात उस वक्त उठा लिया गया था जब वे मुजफ्फरनगर के एक गांव से यहां मेरठ एक दावत में शरीक होने आये हुए थे। उनके वापस घर न पहुंचने व लगातार सभी के मोबाइल आफ आने से चिंतित समाज के लोगों ने बीती रात ही लिसाड़ी गेट थाने को घेर लिया। अपहरण की आशंका जताते हुए लोगों ने पुलिस से दरख्वास्त की कि उनका जल्द पता लगाया जाये। लिसाड़ी गेट पुलिस ने जल्द पता लगाने का आश्वासन तो दे दिया लेकिन इसका खुलासा नहीं किया कि चारों मौलानाओं को पुलिस की एक ब्रांच द्वारा उठाया गया है। आज सुबह मौलाना कलीम सिद्दीकी के भाई को लेकर शहर काजी जैनुल रासिद्दीन व सपा के पूर्व मंत्री शाहिद मंजूर ने पुलिस कप्तान से मुलाकात कर मौलाना कलीम के बारे में मालूमात की। बाहर आकर समाज के दोनों ही मौजिज लोगों ने बताया कि पुलिस कप्तान ने यही आश्वासन दिया कि मौलाना कलीम के साथ कोई ज्यादती नहीं होगी। मतलब साफ है कि पूछताछ की नीयत से मौलाना कलीम सिद्दीकी व उनके तीन साथियों को हिरासत में रखा गया है। क्या आरोप हैं और क्यों ऐसा किया गया है इस पर कोई भी पुलिस अधिकारी कुछ बोलने के लिये तैयार नहीं थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *