यूपी में जगह जगह बवाल, विपक्ष को किया अंदर

लखीमपुरी खीरी कांड से विपक्ष हुआ आग बबूला
मेरठ कमिश्रनरी पर सपाइयों से तीखी झड़प
पुतले पर पेट्रोल डालने को लेकर बहस
पुलिस ने अखबार के पुतले को किया तहस नहस
पूर्व विधायक योगेश वर्मा व अतुल प्रधान हिरासत में लिये गये
प्रियंका गांधी, अखिलेश यादव, जयंत चौधरी, संजय सिंह भी हिरासत में लिये गये
विरोध करने वाले अधिकांश विपक्षी नेताओं को हिरासत में लिया

लखीमपुर खीरी। किसानों पर कार चढ़ाने का मामला तूल पकड़ चुका है। संपूर्ण विपक्ष जहां सड़क पर उतर आया है वहीं सरकार ने भी कड़ा रूख अपनाते हुए विपक्ष के अधिकांश नेताओं को न सिर्फ वहां जाने से रोक दिया बल्कि जिद करने पर हिरासत में भी ले लिया। इनमें कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव, बसपा नेता सतीश मिश्रा, रालोद नेता जयंत चौधरी, आप सांसद संजय सिंह आदि प्रमुख रूप से शामिल हैं। प्रियंका गांधी ने आज सुबह ही लखीमपुरखीरी निकलने का कार्यक्रम घोषित किया था लेकिन वह पुलिस को चकमा देकर रात में ही घर से निकल गयी। उन्हें रास्ते में हिरासत में ले लिया गया, यहां पुलिस से उनकी तीखी झड़प भी हुई। वहीं आज तड़के से ही अखिलेश यादव के घर को पुलिस ने छावनी में तब्दील कर दिया था। बड़ी संख्या में कार्यकर्ता वहां जमे थे। अखिलेश कार से बाहर निकले तो पुलिस ने उन्हें आगे बढ़ने से रोक दिया। इस पर अखिलेश वहीं धरने पर बैठ गये। यहां उन्होंने गृहराज्यमंत्री अजय मिश्रा से इस्तीफा देने, पीड़ित आश्रितों को दो करोड़ का मुआवजा व सरकारी नौकरी देने की मांग रखी। बता दें कि अजय मिश्रा के बेटे समेत करीब 15 लोगों के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। अजय मिश्रा के बेटे पर किसानों की कार चढ़ाने कर इरादतन हत्या करने का आरोप है। हालांकि अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा ने दावा किया है कि घटना के वक्त वह वहां मौजूद ही नहीं था, उसका नाम जबरन राजनीति चमकाने के लिये लिया जा रहा है। शासन प्रशासन के तमाम बड़े अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं और स्थिति पर बराबर नजर बनाए हुए हैं। इंटरनेट मीडिया पर भी बराबर नजर रखी जा रही है, जिला स्तर पर अफवाह व भ्रामक सूचनाएं प्रसारित करने पर कार्यवाही की बात कही गई है। हालातों काे देख शाहजहांपुर में प्रशासन ने इंटरनेट सेवा बंद कर दी है। मेरठ में प्रदर्शन कर रहे सपा के पूर्व मंत्री शाहिद मंजूर को भी हिरासत में ले लिया गया है।

आपको याद दिला दें कि रविवार को लखीमपुर-खीरी में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को कुछ परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास करना था। इसके बाद उन्हें केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्र के पैतृक गांव बनबीरपुर भी जाना था। यहां रास्ते में किसान नेता काले झंडे दिखाने के लिए इकट्ठा हुए थे। केशव प्रसाद वहां पहुंचते इससे पहले ही वहां किसान व भाजपा कार्यकर्ताओं में बवाल हो गया। किसानों पर गाड़ी चढ़ा दी गई, इससे चार किसानों की मौत हो गयी। इससे गुस्साए किसानों ने कार्यकर्ताओं पर लाठी डंडों से हमला बोल दिया। इस हमले में भी चार कार्यकर्ताओं की मौत हो गई है। एक पत्रकार की मौत की भी सूचना है।

विस्तार से यह भी देखिये -(https://www.youtube.com/watch?v=GyIOavJcgro

जंयत चौधरी ने भी टोल प्लाजा से निकलने की कुछ इस तरह कोशिश की। इस बीच, मेरठ में सपा कार्यकर्ताओं ने कमिश्नरी पर धरना प्रदर्शन किया। इस मौके पर कार्यकर्ताओं की पुलिस से झड़प भी हुई। सपा पूर्व कैबिनेट मंत्री व पूर्व विधायक शाहिद मंजूर को हिरासत में ले लिया गया है।

उधर, अखिलेश के धरने के दौरान ही कुछ ही कदम की दूरी पर पुलिस थाने के सामने एक पुलिस जीप को आग के हवाले कर दिया गया। अखिलेश ने कहा कि पुलिस ने ऐसा खुद किया है। आसपास तमाम सीसीटीवी लगे हैं, जांच कर पुलिस को कार्यवाही करनी चाहिये। थाने के सामने जीप में आग लगी है तो इसके लिये सीधे पुलिस जिम्मेदार है। ध्यान डायवर्ट करने के लिये पुलिस ने ही ऐसा किया है। इस बीच, जम्मू कश्मीर के नेता उमर अब्दुल्ला ने लखीमपुरी खीरी प्रकरण पर कहा है कि यूपी अब नया जम्मू कश्मीर बन गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *